Web Mail
Home

जय किसान जय विज्ञान कार्यक्रम मनाया गया

 

भारतीय दलहन अनुसंधान संस्थान में आज दिनांक 29 दिसम्बर, 2015 को जय किसान जय विज्ञान कार्यक्रम मनाया गया । इस अवसर पर च.शे.आ. कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, कानपुर और बाँदा कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, बाँदा के कुलपति डा. सुरेन्द्र लाल गोस्वामी मुख्य अतिथि थे। डा. सुशील कुमार सिंह, प्रधान वैज्ञानिक (कृषि प्रसार) ने कार्यक्रम के बारे में विस्तार से बताया। दीप प्रज्जवलन के पश्चात संस्थान के निदेशक डा. नरेन्द्र प्रताप सिंह ने अतिथियों एवं सभागार में उपस्थित सभी जनांे का स्वागत किया। अपने उद्बोधन में डा. गोस्वामी ने वैज्ञानिक शोधों का भरपूर लाभ किसानों तक पहुँचाने का आह्वाहन किया तथा उन्नत उत्पादन तकनीक को किसानों तक पहुॅचने में हो रही कठिनाइयों के प्रति चिन्ता व्यक्त की। उन्होंने सलाह दी कि किसानों की सहभागिता के साथ ऐसे कार्यक्रम चलाये जाये जिनके शोध परिणाम किसानों के खेत में भी दिखाई दें। उन्होनें वैज्ञानिको का आह्वाहन किया कि इसके लिए मिशन बना कर किसानों के हित में कार्य किया जाये।


संस्थान के निदेशक डा. सिंह ने बदलते जलवायु परिदृष्य, पर्यावरण प्रदूषण तथा खेती पर इसके दुष्प्रभाव पर चिन्ता व्यक्त करते हुए स्वस्थ पर्यावरण पर जोर दिया और उर्वरको के सन्तुलित उपयोग की सलाह दी। डा. सिंह ने संस्थान की विभिन्न गतिविधियों और उपलब्धियों पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि अन्तर्राष्ट्रीय संस्थानों एवं राष्ट्रीय कार्यक्रमों के अन्तर्गत दलहनों पर चल रही विभिन्न परियोजनायें अत्यन्त लाभप्रद रही हैं और उनसे उन्नत प्रजातियों, तकनीकी तथा मानव संसाधन विकास में सफलता मिली है। उन्होनें कहा कि इन सभी उपलब्धियों का लाभ किसानों को मिल रहा है, जिससे उनकी आय में वृद्धि हो रही है और जय किसान जय विज्ञान का मिशन पूरा हो रहा है।

कार्यक्रम में किसान-वैज्ञानिक संवाद का भी आयोजिन किया गया। इसमें किसानों ने अपनी खेती संबंधी कठिनाइयों के बारे में प्रश्न पू़़छे और वैज्ञानिकों ने उनके समाधान बताये।


धन्यवाद् प्रस्ताव डा. संजीव गुप्ता ने प्रस्तुत किया तथा कार्यक्रम का संचालन डा. आदित्य प्रताप ने किया।